राजीव गाँधी पंचायत शशक्तिकरण अभियान (RGPSA)

उद्देश्य:-
योजना का उद्देश्य पंचायतों एवं ग्राम सभा की क्षमता व प्रभावशीलता में अभिवृद्धि पंचायतों में आम-आदमी की भागीदारी की प्रोन्नति, पंचायतों को लोकतांत्रिक रूप से निर्णय लेने एवं उत्तरदायित्व निभाने हेतु सक्षम बनाना, जानकारी एवं पंचायतों की क्षमतावृद्धि हेतु पंचायतों के संस्थागत ढांचे को मजबूत करना, 73वां संविधान संशोधन (।तजपबसम.243) की भावना के अनुरूप अधिकारों एवं उत्तरदायित्वों का पंचायतों को सुपुर्दगी, पंचायती राज व्यवस्था के अन्तर्गत जन सहभागिता, पारदर्शिता एवं उत्तरदायित्व को सुनिश्चित करने हेतु ग्राम सभाओं का सुदृढ़ीकरण तथा संवैधानिक व्यवस्था के पंचायतों को सशक्त रूप देना है।

विस्तार-
यह योजना देश के सभी राज्यों एवं संघशासित क्षेत्रों में चलाई जायेगी। राजीव गांधी पंचायत सशक्तीकरण योजना के अन्तर्गत दिये गये मार्ग-निर्देशों के अनुसार उक्त योजना में उल्लिखित विभिन्न कार्यों में से राज्य सरकार अपनी आवश्यकताओं के अनुसार प्रथम वर्ष के लिए वार्षिक कार्ययोजना तथा 12वीं पंचवर्षीय योजना काल हेतु दीर्घयोजना (च्मतेचमबजपअम च्संद) बनायेगी। राज्य निर्वाचन आयोग एवं राज्य वित्त आयोग भी अपनी योजना बनाकर पंचायती राज मंत्रालय, भारत सरकार को प्रस्तुत कर सकेगी, जिन पर राज्य सरकार के परामर्श से विचार किया जा सकेगा।

राजीव गाँधी पंचायत शशक्तिकरण अभियान (RGPSA) - सम्बंधित दस्तावेज

Guideline of RGPSA
RGPSA Description.pdf

Scheme Reports

Document NameDoc NoUploded On 
RGPSA State Guideline590/33-3-2016/1529/Mar/2016alternate text
Minutes of 4th Panchayat State Executive Committee1374/33-3-2016-60/1631/May/2016alternate text
HPC 1st Meeting Minutes Dated on 17-08-2016250(1)-33-3/1530/Aug/2016alternate text
पंचायत स्टेट एक्जीक्यूटिव कमेटी की चतुर्थ बैठक दिनाॅक 23/05/2016 का कार्यवृत्त23/05/201630/Aug/2016alternate text
Minutes of 5th Panchayat State Executive Committee2795/33-3-2016-60/201618/Nov/2016alternate text
Minutes of 6th Panchayat State Executive Committee226/33-3-2017-60/201623/Feb/2017alternate text
9th SRC Meeting Minutes 20 June 2017RGSA/265/2017-4/39/201410/Jul/2017alternate text

This website is designed & hosted by National Informatics Centre UP State Unit Lucknow. Content provided on this website is owned by Panchayati Raj Department.